:: Welcome To | Indian Culture ::
   
                            Welcome to AWA Culture
               
Call Us 9170800951                
           
Location Madanpur,Mirzapur
single

जो भारत में जन्मे टॉप 12 खेल PART 1

29 Apr 2019

ऐसे बहुत सारे खेल हैं जिनका जन्मदाता देश भारत है, लेकिन कम ही भारतीय यह जानते होंगे कि कौन-कौन से खेल भारतीयों ने खोजे। लेकिन अंग्रेजों और अरबों के विजयी अभियान के बाद भारत के गौरवपूर्ण इतिहास को नष्ट किया गया और खुद के झूठे इतिहास को महिमामंडित कर प्रचारित किया गया, क्योंकि उन्हें नया धर्म स्थापित करना था। इसलिए अंग्रेजों ने खुद को सभ्य और संपूर्ण विश्व को असभ्य घोषित कर दिया। ओलिंपिक इतिहास के पहले भारत में भी ओलंपिक होता था। ओलंपिक के अधिकतर खेल भारत में आविष्कृत हैं।_______ गौरतलब है कि क्षत्रियों को शारीरिक विकास के लिए रथ दौड़, धनुर्विद्या, तलवारबाजी, घुड़सवारी, मल्ल-युद्ध, कुश्ती, तैराकी, भाला फेंक, आखेट आदि का प्रशिक्षण दिया जाता था। इसके अलावा अन्य वर्ग भी बैलगाड़ियों और दक्षिण में नौका की दौड़ में भाग लेते थे। हड़प्पा तथा मोहनजोदड़ो के अवशेषों से ज्ञात होता है कि ईसा से 2500-1550 वर्ष पूर्व सिन्धु घाटी सभ्यता में कई प्रकार के अस्त्र-शस्त्र और खेल के उपकरण प्रयोग किए जाते थे।

युद्ध कलाओं और योग कला का विकास

यह सभी जानते हैं कि बलराम, भीम, हनुमान, जामवंत और जरासंध आदि के नाम मल्ल-युद्ध में प्रख्यात हैं। विवाह के क्षेत्र में भी शारीरिक बल के प्रमाणस्वरूप स्वयंवर में भी शारीरिक शक्ति और दक्षता का प्रदर्शन किसी न किसी रूप में शामिल किया जाता था। राम ने शिव-धनुष पर प्रत्यंचा चढ़ाकर और अर्जुन ने मछली की आंख का प्रतिबिम्ब देखकर प्रतियोगिता में खुद की क्षमता का प्रदर्शन किया था। गौतम बुद्ध स्वयं सक्षम धनुर्धर थे और रथ दौड़, तैराकी तथा गोला फेंकने आदि की स्पर्द्धाओं में भाग ले चुके थे। ‘विलास-मणि-मंजरी’ ग्रंथ में त्र्युवेदाचार्य ने इस प्रकार की घटनाओं का उल्लेख किया है।_______ युद्ध कलाओं का विकास सबसे पहले भारत में किया गया और ये बौद्ध धर्म प्रचारकों द्वारा पूरे एशिया में फैलाई गई। योग कला का उद्भव भारत में हुआ है और यह 5,000 वर्ष से अधिक समय से मौजूद है।

इसके अतिरिक्त जनजातियां भी जिम्नास्टिक की तरह के प्रदर्शनकारी खेलों में पारंगत थीं। बाजीगर चलते-फिरते सरकस करते थे। उनके लिए बांस की सहायता से अपना शारीरिक संतुलन नियंत्रित करके रस्सों के ऊपर चलना साधारण-सी बात है और वे आजकल भी ऐसा ही करते हैं। केवल हाथों के बल पर चलना-फिरना, बांस की सहायता से ऊंची छलांग (हाई जंप) भरना आदि के आधुनिक खेल वे बिना किसी सुरक्षा आडंबरों के दिखा सकते हैं।_______ निम्न खेलों के अलावा छिपाछई, पिद्दू, चर-भर, शेर-बकरी, अस्टा-चंगा, चक-चक चालनी, समुद्र पहाड़, दड़ी दोटा, गो, किकली (रस्सीकूद), मुर्ग युद्ध, बटेर युद्ध, अंग-भंग-चौक-चंग, गोल-गोलधानी, सितौलिया, अंटी-कंचे, पकड़मपाटी आदि सैकड़ों खेल हैं जिनमें से कुछ का अब अंग्रेजीकरण कर दिया गया है। आओ जानते हैं कि ऐसे कौन से टॉप 12 खेल हैं जिनका जन्म भारत में हुआ...